janganmannews

प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी सरकार की शानदार ऐतिहासिक 8 वर्ष स्वर्णिम यात्रा अनीता ध्रुव*

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email
Share on print

*प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी सरकार की शानदार ऐतिहासिक 8 वर्ष स्वर्णिम यात्रा – अनीता ध्रुव*

नगरी10/6/2022


*जनता कह रही है, जो कभी नही हुआ, वह मोदी जी के शासन काल में हुआ*
*महिला कार्यकर्ताओं के साथ मोदी सरकार की उपलब्धियों की जन संदेश पत्रक बांटे*
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व वाली केन्द्र की एनडीए सरकार के सफलतम व स्वर्णिम आठ वर्ष पूरे होने पर भाजपा आदिवासी नेत्री जिला पंचायत सदस्य अनीता ध्रुव ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहाँ की भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा नीत सरकार ने शानदार ऐतिहासिक 8 वर्ष पूरे किये हैं। इस आठ वर्ष की स्वर्णिम यात्रा को कम शब्दों में सेवा, सुशासन और गरीब कल्याण का वर्ष इन्हें कहा जा सकता है। मोदी जी के नेतृत्व में युगपरिवर्तन कारी यह यात्रा अहर्निश जारी है।
सेवा -: कोरोना के इस वैश्विक संकट में देश के सभी नागरिकों के लिए विश्वप्रसिद्ध दोनों टीके के दोनों डोज मुफ्त देने की सेवा से लेकर समूचे देश के पीड़ितों तक चिकित्सा एवं अन्य तमाम राहत समग्री की सेवा। जिस प्रधानमंत्री ने अपना पदनाम ही प्रधान सेवक रख लिया हो, उसके संवेदनशील नेतृत्व में केंद्रीय सत्ता और संगठन को सेवा का पर्याय ही बना दिया गया।
सुशासन -: समूचा देश आज लगभग दंगामुक्त हो गया है। साम्प्रदायिक और तुष्टिकरण की राजनीति को विराम लगा है। कश्मीर से कन्यामुमारी तक भारत की एकता और अखंडता जितनी आज मज़बूत है, वैसा पहले कभी नहीं रही। दुनिया भर में आज मोदी जी के सुशासन की पहचान है। अनेक वैश्विक संगठनों ने मोदी जी को विश्व के सर्वश्रेष्ठ नेता का ख़िताब दिया है। यह हम सबके लिए गर्व की बात है। गरीब कल्याण : देश के 80 करोड़ से अधिक नागरिकों तक अनवरत खाद्यान की आपूर्ति कोरोना के वैश्विक संकट के दौरान सुनिश्चित करते रहने से बड़ा गरीब कल्याण और क्या हो सकता है भला? मोदी जी ने सभी गरीबों के सर के छत की चिंता की, शुद्ध नल जल उपलब्ध कराने से लेकर उन्हें आयुष्मान भारत के तहत मुफ्त चिकित्सा से लेकर तमाम कल्याणकारी योजनाओं से उन्हें जोड़ा। पिछले 8 वर्षों में देश की गरीबी 22% से घट कर 10% से नीचे आ गई है। कोरोना संकट के बावजूद अत्यंत गरीबी की दर भी 1% से कम 0.8% पर स्थिर बनी हुई है।
पहले देश में एक सामान्य सोच थी कि इस देश का कुछ भी नहीं हो सकता। अब आम जनमानस में यह धारणा बनी है कि मोदी है तो मुमकिन है। 8 साल की यह यात्रा देश की सोच को बदलने की यात्रा है। पहले सरकार जनता से कहती थी- “हुआ तो हुआ”। अब जनता कह रही है – जो कभी नहीं हुआ, वह मोदी जी के शासन काल में हुआ। ये आत्मनिर्भर भारत की यात्रा है, विश्वगुरु के पद पर भारत के प्रतिष्ठित करने का मार्ग बनाने की यात्रा है। 8 वर्ष की यह यात्रा आत्मनिर्भर भारत की “संकल्प से सिद्धि” के रहे हैं। आत्मनिर्भर भारत देश का रास्ता भी है और संकल्प भी। आत्मनिर्भरता में देश के अनेक मुश्किलों का हल है।
बदलाव की कहानी, प्रगति की निशानी
पहले योजनायें कागज़ पर ही बनती थी, कागज़ पर ही लागू होती थी और कागज़ पर ही पूरी हो जाती थी। आज जनता यह देख रही है कि जिस योजना का शिलान्यास होता है, वह योजना उसी कार्यकाल में पूरी भी होती है। बीते 8 वर्ष कागज़ से क्रियान्वयन और अमलीकरण की यात्रा के रहे हैं। मोदी जी की हर योजना अंतिम लाभार्थी तक पहुँचने के परिणाम यह रहे हैं कि 8 वर्षों में देश की प्रति व्यक्ति आय दोगुनी हुई है। 2014 में 79 हजार रुपये सालाना, अब डेढ़ लाख रुपये हो गया है। विदेशी मुद्रा भंडार भी लगभग दोगुना हुआ है। 2014 में 300 अरब डॉलर, अब लगभग 600 अरब डॉलर
आजादी के 70 साल में देश में केवल 6.37 लाख प्राइमरी स्कूल बने जबकि मोदी जी की सरकार के केवल 8 वर्षों में 6.53 लाख प्राइमरी स्कूल बने।
विगत 8 वर्षों में देश में 15 नए एम्स का निर्माण हुआ जबकि आजादी से 2014 तक देश में केवल 7 एम्स थे, उसमें से भी 6 श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी की सरकार में बने।
डॉक्टरों की संख्या भी पिछले 8 साल में 12 लाख से ज्यादा बढ़ी है। 8 साल में लगभग 170 नए मेडिकल कॉलेज बने। 8 साल में भारत का सड़क नेटवर्क दुनिया में दूसरे स्थान पर पहुँच गया। पिछले 8 साल में मोदी जी की सरकार ने लगभग तीन लाख 25 हजार किमी सड़क निर्माण को मंजूरी दी है।
सौर और पवन ऊर्जा में भारत की क्षमता बीते पांच सालों में दोगुनी हुई।
2012-13 में देश में खाद्यान्न का उत्पादन 255 मिलियन टन था जो 2021-22 में बढ़ कर 316.06 मिलियन टन हो गया है। यह आजादी के बाद अब तक का रिकॉर्ड उत्पादन है।
कोविड के कारण उत्पन्न मंदी के बावजूद पिछले वित्त वर्ष में 418 अरब डॉलर का रिकॉर्ड निर्यात।
वित्तीय वर्ष 2021-22 के दस महीने में भारत के कृषि निर्यात में 23 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई।
2009 से 2014 (मनमोहन सरकार) के पांच सालों में कृषि बजट में 8.5% की वृद्धि हुई थी, वहीं 2014 से 2019 के बीच कृषि बजट में 38.8% की वृद्धि हुई। 2009-10 में मनमोहन सरकार में जो कृषि बजट था, अब वह 10 गुना बढ़ गया है। 2013-14 में भारत की जीडीपी 112.33 लाख करोड़ रुपये के आसपास थी। आज भारत की जीडीपी दोगुने से भी अधिक यानी 232.14 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा है।
खादी के विकास के लिए आजादी के 70 सालों तक कोई काम नहीं हुआ। प्रधानमंत्री जी के आह्वान के बाद पहली बार खादी उत्पादों ने एक साल में 1 लाख 15 हजार करोड़ रुपये का कारोबार किया है।
डीबीटी योजना जैसा कि राजीव गांधी जी ने कहा था, दिल्ली से निकला एक रुपया ज़मीन पर मात्र 10 पैसा बन कर पहुंचता है, अब डीबीटी के तहत शत-प्रतिशत पैसा सीधे लाभार्थी के खाते में जाना संभव हुआ है। जीरो लीकेज। 8 वर्षों में लाभार्थियों को अब तक श्री नरेन्द्र मोदी सरकार ने 225 ख़रब रुपये ट्रांसफर किये हैं जो गरीबों के सशक्तिकरण का एक प्रमुख टूल बन कर उभरा है। JAM (जन-धन, आधार और मोबाईल) ने लाभार्थियों तक शत-प्रतिशत सरकारी सहायता का पहुंचना सुनिश्चित किया है।
पहली बार किसी सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था और जीडीपी को आम जनता से जोड़ा। उज्ज्वला योजना, स्वच्छ भारत अभियान, जल जीवन मिशन, गरीब कल्याण अन्न योजना, किसान सम्मान निधि, आयुष्मान भारत और सौभाग्य योजना के कारण देश की अर्थव्यवस्था भी मजबूत हुई और मंदी के बावजूद देश की विकास दर दुनिया में सर्वाधिक बनी रही।
गरीब कल्याण अन्न योजना-: पिछले दो वर्षों से मोदी सरकार 3.40 लाख करोड़ रुपये की लागत से देश के लगभग 80 करोड़ लोगों तक जरूरी राशन मुफ्त पहुंचा रही है। यह दुनिया की सबसे बड़ी खाद्यान्न वितरण योजना है।
किसान सम्मान निधि-: देश के 12 करोड़ से अधिक किसानों को सालाना 6,000 रुपये की आर्थिक सहायता प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी दे रहे हैं। अब तक 10 किस्तों में किसानों को 1 लाख 80 हजार करोड़ रुपये दिए जा चुके हैं। अगली क़िस्त कल ही आदरणीय प्रधानमंत्री जी जारी करने वाले हैं। इसके अलावा एमएसपी पर धान खरीदी से लेकर उर्वरकों पर 90 प्रतिशत तक सब्सिडी दी जा रही है।एक बोरा यूरिया पर 3 हज़ार से अधिक तो डीएपी पर 2 हज़ार से अधिक अनुदान मोदी जी दे रहे हैं।
आयुष्मान भारत-: देश के लगभग 55 करोड़ लोगों को सालाना 5 लाख रुपये तक का मुफ्त स्वास्थ्य बीमा का लाभ मिल रहा है। अब तक तीन करोड़ से अधिक लोग लाभ ले चुके हैं। 18 करोड़ से अधिक आयुष्मान कार्ड जारी । जल जीवन मिशन 9 करोड़ से अधिक घरों में नल से जल पहुंचाने की शुरुआत हो गई है। इस वर्ष लगभग चार करोड़ घरों को इससे जोड़ने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।
सौभाग्य योजना-: हर गाँव बिजली पहुँचाने के बाद मोदी सरकार ने हर घर तक बिजली पहुंचाने का बीड़ा हाथ में लिया है। अब तक 2 करोड़ 81 लाख से अधिक घरों में बिजली पहुंचाई जा चुकी है। 36 करोड़ से अधिक LED बल्ब वितरित किये जा चुके हैं।
उज्ज्वला योजना -: 9 करोड़ महिलाओं को चूल्हे के धुएं से मुक्ति मिली है। उनका स्वास्थ्य भी सुधरा है और जीवन स्तर भी।
प्रधानमंत्री आवास योजना-: अब तक इसके तहत 2.38 करोड़ से अधिक घर गरीबों के लिए बनाये जा चुके हैं।
स्वच्छ भारत अभियान-: ये पूरे भारत का आंदोलन बना। देश में लगभग 11 करोड़ से अधिक शौचालय बनाए गए। आज पूरा भारत खुले में शौच के अभिशाप से मुक्त की ओर है। इससे गरीब लोगों को बीमारियों से लड़ने में भी काफी सहायता मिली है।
प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में 34 करोड़ से अधिक लोन वितरित किये जा चुके हैं।
जन-धन योजना में 45 करोड़ से अधिक खाते खुल चुके हैं।
आत्मनिर्भर भारत अभियान के पांच स्तम्भ अर्थव्यवस्था, बुनियादी ढांचा, डेमोग्राफी, मांग और सिस्टम :-
हर गाँव में इंटरनेट कनेक्शन और कॉमन सर्विस सेंटर, हर गाँव में ऑप्टिकल फाइबर का जाल
हर गाँव को राजमार्ग से जोड़ने की पहल, हर गाँव तक पक्की सड़कें
खाद्य सुरक्षा : खाद्यान्न का रिकॉर्ड उत्पादन, एमएसपी पर रिकॉर्ड खरीद।
रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता 200 से ज्यादा रक्षा उपकरणों की विदेश से खरीद पर रोक,अन्तरिक्ष क्षेत्र में महाशक्ति बना भारत, एक साथ 100 से अधिक सैटेलाईट लांच कर मिशन चंद्रयान और मिशन मंगलयान पर फोकस।
सेल्फ हेल्प गुप्स, वर्किंग प्लेस पर सुरक्षा, सेना में महिला अफसरों को स्थायी कमीशन, मुद्रा लोन में – प्राथमिकता, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, सुकन्या समृद्धि योजना, पीएम समर्थ योजना मातृत्व आश्वासन सुमन योजना इत्यादि योजनाओं से हो रही है महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने पहल सुरक्षित की।
• किसान सम्मान निधि के साथ कृषि सेक्टर के के लिए 1 लाख करोड़ रुपये (FPOs के लिए)
• डिजिटल इंडिया से आई देश में क्रांति
• वन नेशन वन राशन कार्ड से मजदूरों की सहायता
सभी विवादित समस्याओं का समाधान, विकास की ओर नई उड़ान
2014 से पहले समस्याओं को ही नियति मान लिया गया था। देश की जनता ने तो यह सोचना ही छोड़ दिया था कि ये समस्याएं कभी ख़त्म भी हो सकती हैं। लेकिन धरती पुत्र श्री नरेन्द्र मोदी की मंशा ही कुछ और थी। उन्होंने सभी समस्याओं का स्थायी और शांतिपूर्ण समाधान कर राष्ट्र को विकास की धारा के साथ जोड़ दिया।
• जम्मू-कश्मीर बना भारत का अभिन्न अंग और धारा 370 हुआ निष्प्रभावी।
• अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर बनने का सपना हुआ पूरा • ट्रिपल तलाक से मिली मुस्लिम महिलाओं को आजादी • नागरिकता संशोधन कानून संसद में हुआ पारित • आतंकवाद के खिलाफ व्यापक अभियान • गरीब सवर्णों को आरक्षण • ओबीसी कमीशन को संवैधानिक मान्यता • वन रैंक, वन पेंशन • वन नेशन, वन राशन कार्ड • 1450 पुराने और बेकार कानूनों से मिली जनता को राहत • ऐतिहासिक श्रम सुधार क़ानून क्रियान्वित । ई-श्रम कार्ड से करोड़ों मजदूरों को लाभ॥ संस्कृति को दिया सम्मान, नागरिकों में जगाया देश के लिए अभिमान • अयोध्या में भव्य श्री राम मंदिर का निर्माण • दिव्य कशी, भव्य काशी का सपना हुआ साकार । • बाबा केदारनाथ धाम का पुनरुद्धार • सोमनाथ का विकास • स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी का निर्माण लौह पुरुष को सम्मान • बाबा साहब भीमराव से जुड़े पंचतीर्थ का निर्माण • आदिवासी स्वतंत्रता सेनानियों को समर्पित जनजातीय संग्रहालय का निर्माण • संविधान दिवस, सामाजिक समरसता दिवस, विभाजन विभीषिका दिवस, राष्ट्रीय एकता दिवस, जनजातीय गौरव दिवस और योग दिवस की शुरुआत
• नेशनल वॉर मेमोरियल और प्रधानमंत्री संग्रहालय का निर्माण
रूस-यूक्रेन युद्ध के दौरान भारत की कूटनीति की सराहना तो हमारे दुश्मन भी कर रहे हैं। भारत ने अपने 23 हजार छात्रों की सकुशल वतन वापसी कराई।
कोविड प्रबंधन
स्वयं के साथ ही विश्व – कल्याण की भावना से मोदी सरकार ने किया काम
• वसुधैव कुटुंबकम दुनिया के 100 से अधिक देशों को दवाई से मदद,
• केवल 9 महीने में भारत ने दो-दो कोविड वैक्सीन विकसित किये
• अब तक देश में 192 करोड़ से अधिक वैक्सीन डोज एडमिनिस्टर हुए। प्रधानमंत्री जी के जन्मदिन पर एक दिन में ढाई करोड़ वैक्सीनेशन का रिकॉर्ड।
• मेडिकल ऑक्सीजन और जीवन रक्षक दवाओं की आपूर्ति के लिए युद्ध स्तर पर अभियान | अब देश में कहीं भी ऑक्सीजन और दवाइयों की दिक्कत नहीं।
2014 से पहले देश की जनता :
• परेशान थी नीचे से लेकर ऊपर तक भ्रष्टाचार से
• परेशान थी नीतियों में शिथिलता की तत्कालीन सरकार की आदत से।
• परेशान थी जातिवाद, परिवारवाद और तुष्टिकरण की राजनीति से।
आजादी के 70 साल बाद भी देश के सभी गांवों तक बिजली नहीं, गरीबों के बैंक खाते नहीं । गरीबों के घर में गैस चूल्हे नहीं । नागरिकों के लिए न्यूनतम प्रीमियम पर बीमा नहीं। गरीबों के लिए कोई आयुष्मान भारत जैसा सरकारी मेडिकल इंश्योरेंस उपलब्ध नहीं ।
गरीबों को उनके हक की रकम मिलने की गारंटी नहीं।
कांग्रेस मुक्त भारत की तरफ अग्रसर। आठ साल में हुए 50 विधानसभा चुनाव में से 41 में कांग्रेस को दी मात। मोदी जी ने अपने विजन और जन कल्याणकारी योजनाओं से दिया जीत का मंत्र। सबका साथ-सबका विकास, सबका विश्वास-सबका प्रयास के मंत्र से कांग्रेस की तुष्टिकरण की राजनीति पूरी तरह भरभराकर बिखर गई। उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा, मणिपुर और पंजाब मिलाकर 680 विधानसभा सीटों में से कांग्रेस बमुश्किल 56 पर जीत सकी। उत्तर प्रदेश में उसके 387 उम्मीदवारों के जमानत जब्त हुए। आज केवल दो राज्य राजस्थान और छत्तीसगढ़ में ही कांग्रेस की पूर्ण बहुमत की सरकार है। झारखंड और महाराष्ट्र में वो छोटे सहयोगी दल की भूमिका में है।
हाल के पांच राज्यों में चुनाव पांचों में हारी कांग्रेस, चार में बीजेपी की डबल इंजन सरकारें।
उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा में विधानसभा चुनाव हुए। 1985 के बाद पहली बार था जब कांग्रेस यूपी की सभी सीटों पर उतरी, लेकिन मात्र 2 सीटें ही जीत सकी। पंजाब से भी कांग्रेस की विदाई हो गई।
आजादी का अमृत महोत्सव
एक वैभवशाली भारत बनाने का हमारा सपना 130 करोड़ भारतीयों का सामूहिक संकल्प है।
आजादी का अमृत महोत्सव
एक वैभवशाली भारत बनाने का हमारा सपना 130 करोड़ भारतीयों का सामूहिक संकल्प है।
अमृत महोत्सव यानी :- आजादी की ऊर्जा का अमृत। स्वाधीनता सेनानियों से प्रेरणाओं का अमृत, नए विचारों का अमृत। नए संकल्पों का अमृत। यानी आत्मनिर्भरता का अमृत।
आजादी के अमृत महोत्सव में भाजपा का यही संकल्प है कि देश की महान जनता के साथ, भारत की तरुनाई के साथ हिन्दुस्थान को पुनः विश्वगुरु के पद प्रतिष्ठित करने के लिए आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में परिश्रम की पराकाष्ठा करेंगे, आर्यावर्त के वैभव की पुनर्स्थापना कर मां भारती को फिर से परम वैभव के सिंहासन पर आसीन करेंगे, देश को समृद्ध बनायेंगे॥
स्वाधीनता सेनानियों से प्रेरणाओं का अमृत, नए विचारों का अमृत। नए संकल्पों का अमृत। यानी आत्मनिर्भरता का अमृत।
अन्त में अनीता ध्रुव जिला पंचायत सदस्य ने कही की इस आजादी के अमृत महोत्सव में हम सब मिल कर संकल्प लें कि भारत वर्ष को विश्वगुरु के पद प्रतिष्ठित करने के लिए आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में परिश्रम की पराकाष्ठा करेंगे को समृद्ध बनायेंगे।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Comment

What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent News

Share on whatsapp