janganmannews

जैन समाज के संत के खिलाफ किए अभद्र टिप्पणी को लेकर सकल जैन समाज नगरी नें मुख्यमंत्री एवं राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौपा

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email
Share on print

जैन समाज के संत के खिलाफ किए अभद्र टिप्पणी को लेकर सकल जैन समाज नगरी नें मुख्यमंत्री एवं राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौपा

छत्तीसगढ़ क्रांति सेना के अध्यक्ष अमित बघेल के खिलाफ तुरंत ठोस कार्यवाही कर उनकी गिरफ्तारी की मांग की है

नगरी

सकल जैन समाज नगरी के आह्वान पर जैन समाज के सभी वर्ग के लोग नगरी एसडीएम को मुख्यमंत्री एवं राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपकर छत्तीसगढ़ क्रांति सेना के अध्यक्ष अमित बघेल के खिलाफ तुरंत ठोस कार्यवाही कर उनकी गिरफ्तारी की मांग की है
छत्तीसगढ़ के विभिन्न क्षेत्रों से जैन समाज के लोग जैन समाज के संत के खिलाफ अभद्र टिप्पणी को लेकर खासे नाराज हैं और जगह-जगह विरोध स्वरूप रैली निकालकर कार्यवाही की मांग को लेकर मुख्यमंत्री एवं राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा जा रहा है

आज सकल जैन समाज के बैनर तले छत्तीसगढ़ क्रांति सेना के प्रदेश अध्यक्ष अमित बघेल द्वारा अल्पसंख्यक जैन समाज के धर्म गुरुओं पर की गई अभद्र टिप्पणी की घोर निंदा एवं उसके विरुद्ध कड़ी कार्यवाही करने हेतु ज्ञापन सौंपकर छत्तीसगढ़ क्रांति सेना के अध्यक्ष के ठोस कार्यवाही को लेकर ज्ञापन सौंपा गया ज्ञापन में कहा गया
आदिवासी समाज के आह्वान पर ग्राम तूएगोंदी, थाना गुंडरदेही, जिला बालोद, छत्तीसगढ़ में आदिवासियों पर हुए हमलों को लेकर बालोद जिला बंद का आह्वान किया गया था, अल्पसंख्यक एवं अहिंसक जैन समाज के धार्मिक गुरुओं के खिलाफ अभद्र, अनर्गल एवं बहुत ही घटिया शब्दों का प्रयोग करते हुए जैन समाज का अपमान किया है।

सारे विश्व में अहिंसा का पाठ पढ़ाने वाले, आपसी प्रेम सद्भाव एवं भाईचारा बढ़ाने वाले, जियो और जीने दो का संदेश देने वाले और जगत के सभी प्राणिमात्र के प्रति करुणा भाव धारण करने वाले जैन मुनियों के बारे में ऐसी धारणा रखने वाले और खुले मंच से उनके प्रति ऐसी घटिया भाषा का प्रयोग करने वाले कि मानसिकता का अंदाजा स्वयं लगाया जा सकता है। अमित बघेल जिन्होंने आज जैन मुनियों के बारे में बहुत ही गंदे गंदे शब्दों का प्रयोग किया है, यह छत्तीसगढ़ राज्य जो कि आपसी प्रेम और सद्भाव के लिए जाना जाता है, के लिए अच्छा सूचक नहीं है और यह बयान इस प्रेम सद्भाव के वातावरण में जहर घोलने वाला कृत्य है। अगर शासन इस प्रकार की कृत्य पर संज्ञान लेकर कार्यवाही नहीं करेगी तो भविष्य में सभी जाति विशेष कर अल्पसंख्यकों को विशेष परेशानी होगी। छत्तीसगढ़ राज्य के इतिहास में इन शब्दों का प्रयोग किसी भी साधु के लिए नहीं किया गया है, यह एक बहुत ही निंदनीय कृत्य है। अमित बघेल द्वारा ना सिर्फ जैन मुनियों के प्रति अपशब्द कहे गए अपितु समय आने पर इंसानों को तक मारकर जीव बलि देने तक कि बात कही गई जोकि सर्व मानव समाज के लिए अपमानजनक है एवं उनकी घिनौनी सोच को दर्शाती है।

समाज में असाम्प्रदायिकता का माहौल बनाने वाले ऐसे असामाजिक व्यक्ति के खिलाफ सरकार आवश्यक कार्यवाही शीघ्र करेगी इन्हीं कामना के साथ जैन समाज यह ज्ञापन आपको सौंपती है
इस समय उपस्थित थे जैन श्री संघ के अध्यक्ष उत्तम गोलछा, उपाध्यक्ष मोहन नाहटा ,सचिव प्रिंस गोलछा,
राजेंद्र गोलछा , अजय नाहटा, शिखर छाजेड़, गौतम नाहटा, नीलम संचेती ,जीवन नाहटा, नीलम ढेलडिय़ा, देवी चंद ढेलडिय़ा, मांगीलाल सुराना ,पितु बोहरा ,अनिल मालू, मनीष चोपड़ा ,अभिषेक ढेलडिय़ा, अनिल छाजेड़, मोहित पहाड़िया, दीपक डागा नवीन पारख वं समस्त जैन समाज के सदस्य संख्या में उपस्थित थे

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Comment

What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent News

Share on whatsapp