janganmannews

धमतरी पुलिस अधीक्षक ने क्राइम मीटिंग में लंबित मामलों की समीक्षा,अपराध रोकने एवं असामाजिक गतिविधियों पर अंकुश लगाने दिए सख्त निर्देश

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email
Share on print

धमतरी पुलिस अधीक्षक ने क्राइम मीटिंग में लंबित मामलों की समीक्षा,अपराध रोकने एवं असामाजिक गतिविधियों पर अंकुश लगाने दिए सख्त निर्देश

● *सीमावर्ती थाना क्षेत्रों में मादक पदार्थ,अवैध गांजा,धान एवं शराब के परिवहन में पूर्ण प्रतिबंध लगाने एवं नक्सल गतिविधियों पर प्रभावी अकुंश लगाने के दिये निर्देश।*

● *सभी अनुभागों में संवेदनशील क्षेत्रों में पैदल पेट्रोलिंग कर विजुअल पुलिसिग करने दिये निर्देश*

● *महिला व बच्चों संबंधी शिकायत व रिपोर्ट पर त्वरित कार्यवाही करने एवं लापरवाही नहीं बरतने दी हिदायत*

● *क्राईम मीटिंग में शिकायत, गुम इंसान व अपराध की पेंडेंसी पर लगाई थाना प्रभारियों को फटकार*

● *माननीय न्यायालय द्वारा जारी समंस-वारंटो की समय पर तामिली एवं लघु अधिनियम व प्रतिबंधात्मक कार्यवाही के दिए निर्देश*

● *पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी थाना/चौकी में जाकर आकस्मिक निरीक्षण एवं थाने में ही विवेचना अधिकारियों की मीटिंग लेकर किया जायेगा समीक्षा*

● *बेहतर पुलिसिंग कर आम जनों में हो पुलिस के प्रति विश्वास और अपराधियों में हो पुलिस का भय*

पुलिस अधीक्षक *श्री प्रशांत ठाकुर* ने क्राइम मीटिंग हेतु दिए गए एजेंडा बिंदुओं पर कार्यों की प्रगति संबंधी आज दिनांक 31/03/2022 को पुलिस कार्यालय में जिले के राजपत्रित पुलिस अधिकारी एवं थाना व चौकी प्रभारियों की अपराध समीक्षा बैठक ली गई। पुलिस अधीक्षक ने लंबित अपराधों एवं शिकायत की समीक्षा करते हुए त्वरित निराकरण करने व पेंडेंसी कम करने के उद्देश्य से सभी सुपरविजन अधिकारी एवं थाना व चौकी प्रभारियों से सभी अनसुलझे व लंबित मामलों पर चर्चा कर निकाल हेतु महत्वपूर्ण दिशा निर्देश दिये ।

मीटिंग के दौरान पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा महिला संबंधी अपराधों में पुलिस मुख्यालय द्वारा जारी किए गए निर्देशों तथा महिला संबंधी रिपोर्ट एवं शिकायत पत्रों पर किसी भी प्रकार की लापरवाही नहीं बरतने के कड़े निर्देश दिये। साथ ही गुम नाबालिकों की पतासाजी व दस्तयाब कर प्राप्त साक्ष्य के आधार पर वैधानिक कार्यवाही करने निर्देशित किया गया है।

उन्होंने सभी राजपत्रित अधिकारियों को महिला एवं बच्चों से संबंधित अपराध तथा लंबित गंभीर मामलों के साथ-साथ चिटफंड कंपनी से संबंधित शिकायतों एवं आईटी एक्ट प्रकरणों की अपने स्तर पर समीक्षा कर आवश्यकतानुसार पुलिस टीम बनाकर दीगर प्रांत भेजने हेतु निर्देशित किया।
जमीन संबंधी विवादों में दोनों पक्षों पर अनिवार्यतः प्रतिबंधात्मक कार्यवाही करने कहा।

पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी थाना/चौकी में जाकर आकस्मिक निरीक्षण किया जायेगा एवं थाने में ही विवेचना अधिकारियों की मीटिंग लेकर उनके कार्यों की समीक्षा किया जायेगा।

नक्सल गतिविधियों पर प्रभावी अकुंश लगाने नक्सल आपरेशन का नियमित संचालन करने एवं सीमावर्ती थाना क्षेत्रों में अवैध गांजा,धान एवं शराब के परिवहन में पूर्ण प्रतिबंध लगाने के दिये निर्देश।

थानावार लंबित अपराध, शिकायत, समंस/वारंट, मर्ग, गुम इंसान, चिटफंड कंपनियों के विरुद्ध पंजीबद्ध अपराध की समीक्षा उपरांत लंबित मामले का निराकरण करने कहा गया है। साथ ही सभी प्रभारी को अपने-अपने थाना क्षेत्र में शांति एवं सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने हेतु सूचना तंत्र मजबूत कर संपत्ति संबंधी अपराध जैसे लूट, चोरी, धोखाधड़ी आदि को रोकने के लिए अधिक से अधिक लघु व प्रतिबंधात्मक अधिनियम के तहत कार्यवाही करने तथा रात्रि गस्त एवं पेट्रोलिंग को सुदृढ़ करने हिदायत दी।

थाना क्षेत्र के बदमाशों पर सतत निगाह रखते हुए उनकी सक्रियता पाए जाने पर विधिवत प्रतिबंधात्मक कार्यवाही करने एवं असामाजिक गतिविधियों जैसे अवैध शराब व मादक पदार्थों की बिक्री, अवैध आर्म्स, जुआ-सट्टा में संलिप्त व्यक्तियों के विरुद्ध अभियान चलाकर वैधानिक कार्यवाही कर उनकी गतिविधियों पर अंकुश लगाने सख्त निर्देश दिये।
व्हीव्हीआईपी,व्हीआईपी मूव्हमेंट के पहले थाना, चौकी प्रभारियों को अपने-अपने थाना क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था में विशेष सावधानी बरतने कहा गया।

पुलिस अधीक्षक महोदय ने क्राईम मीटिंग के दौरान माननीय न्यायालय द्वारा जारी समंस-वारंटो की तामीली एवं न्यायालयीन कार्यों को पूर्ण जवाबदेही के साथ समयावधि में निराकृत करने के निर्देश दिए। थानों में लंबित माल के आवश्यक निराकरण करने व क्षेत्र के सामाजिक संस्थानों, व्यापारियों एवं नागरिकों से संपर्क कर सीसीटीवी कैमरों की संख्या बढ़ाने हेतु निर्देशित किए।

उपस्थित सभी पुलिस अधिकारियों को बेहतर बेसिक व विजिबल पुलिसिंग हेतु आवश्यक दिशा निर्देश देते हुए सामुदायिक पुलिसिंग अभियान के तहत जनता से संपर्क कर ऑनलाइन धोखाधड़ी, साइबर क्राइम, एटीएम फ्रॉड व यातायात नियमों के प्रति जागरूकता कार्यक्रम समय-समय पर चलाए जाने निर्देशित किए।
थाना प्रभारियों को अपने अधिनस्थों पर नियंत्रण रखने एवं आगंतुकों से शालीनता पूर्वक व्यवहार करने एवं महिलाओं बच्चों व बुजुर्गो से संबंधित मामलों का त्वरित निराकरण करने दिए निर्देश।

उक्त क्राईम मीटिंग में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती निवेदिता पॉल, उप पुलिस अधीक्षक मुख्यालय श्री जी.सी.पति,अनु.अधिकारी कुरूद श्री अभिषेक केशरी,उप पुलिस अधीक्षक यातायात श्री मणीशंकर चंद्रा,उप पुलिस अधीक्षक नक्सल श्री आर.के.मिश्रा,उप पुलिस अधीक्षक अजाक श्रीमती रागिनी तिवारी,उप पुलिस अधीक्षक (महिला विरुद्ध अपराध) श्रीमती सारिका वैद्य, , रक्षित निरीक्षक श्री के देवराजू, इकाई के समस्त थाना एवं चौकी प्रभारी,निरीक्षक सत्यकला रामटेके, निरीक्षक अरुण उईके,स्टेनो अखिलेश शुक्ला,डीएसबी प्रभारी,नक्सल प्रभारी, सायबर प्रभारी, महिला सेल प्रभारी, अजाक प्रभारी,मुख्य लिपिक,स्थापना लिपिक एवं पुलिस कार्यालय के अन्य पुलिस अधिकारीगण उपस्थित रहे।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Comment

What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Recent News

Share on whatsapp